उन्नति प्रोजेक्ट के तहत मनरेगा श्रमिकों को प्रशिक्षण देकर बनाया जायेगा हुनरमंद: केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: मनरेगा श्रमिक मात्र श्रमिक बनकर ही न रह जाएं, इसलिए उन्हें अपने इच्छित, क्षेत्र में कुशल, हुनरमंद व काबिल बनाने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य के नेतृत्व व निर्देशन में प्रदेश में उन्नति परियोजना  लागू की गयी है। प्रोजेक्ट उन्नति के क्रियान्वयन हेतु  18-45 वर्ष तक के 100 दिनों का रोजगार पूर्ण करने वाले मनरेगा जॉब कार्ड होल्डर/परिवार के पात्र व इच्छुक सदस्यों कोग्रामीण स्व-रोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) के माध्यम से प्रशिक्षण दिये जाने की व्यवस्था की गयी है। उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मनरेगा श्रमिकों को हुनरमंद  बनाने से आगे विभिन्न गतिविधियों में काम करके वह अपनी आमदनी में इजाफा कर सकेंगे। उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने ग्राम्य विकास विभाग के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि उन्नति परियोजना का क्रियान्वयन पूरी निष्ठा इमानदारी , संवेदनशीलता व गम्भीरता के साथ किया  जाना सुनिश्चित किया जाए। श्रमिकों के हितों से जुड़ी इस परियोजना के क्रियान्वयन में किसी भी स्तर पर लापरवाही या हीलाहवाली किसी भी दशा में क्षम्य नहीं होगी।
ग्राम्य विकास आयुक्त श्री जी एस प्रियदर्शी ने बताया कि समस्त मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वित्तीय वर्ष 2018-19 से वित्तीय वर्ष 2023-24 तक के 100 दिनों का रोजगार प्राप्त 18-45 वर्ष तक के पात्र व इच्छुक मनरेगा श्रमिकों का विकास खण्डों में मुनादी करवाकर ‘मोबिलाइजेशन शिविर के आयोजन द्वारा चयन करते हुये चयनित मनरेगा श्रमिकों का जिला स्तरीय कौशल विकास मिशन के माध्यम से कौशल पंजी पर पंजीकरण करवाकर जनपद के आरसेटी को पंजीकृत लाभार्थियों को प्लम्बर, इलेक्ट्रिशियन, मेन्सन आदि इच्छुक व्यवसायों में ऑनलाइन बैच बनाकर प्रशिक्षण  दिलाना सुनिश्चित  किया जाए।
मिशन निदेशक राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन सुश्री दीपा रंजन ने सभी मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वह  निर्धारित प्रक्रियानुसार  निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप लाभार्थियों का चयन सुनिश्चित करवाते हुये चयनित मनरेगा श्रमिकों का जिला स्तरीय कौशल विकास मिशन के माध्यम से कौशल पंजी पर पंजीकरण करवाकर जनपद के आरसेटी को पंजीकृत लाभार्थियों को प्लम्बर, इलेक्ट्रिशियन, मेन्सन आदि इच्छुक व्यवसायों में ऑनलाइन बैच बनाकर प्रशिक्षण  आरसेटी से प्रशिक्षण  दिलाने की कार्यवाही पूरी गम्भीरता से करें।मिशन निदेशक, उ०प्र० राज्य कौशल विकास मिशन, से अपेक्षा की गयी है  कि वह जिला स्तरीय कौशल विकास मिशन कार्यालयों को यह निर्देशित करने का कष्ट करें कि जिले के उपायुक्त स्वतः रोजगार द्वारा उपलब्ध करायी गयी मनरेगा श्रमिकों की सूची का कौशल पंजी पोर्टल पर ससमय पंजीकरण सुनिश्चित करें।सभी जिलों  के  उपायुक्त, मनरेगा को निर्देश दिए गए हैं कि वह नियमानुसार  कौशल पंजी पर जनपद के अधिक से अधिक पात्र व इच्छुक मनरेगा श्रमिकों के चयन हेतु जिला व विकास खण्ड स्तर से सहयोग प्रदान करें। सभी जिलों  के उपायुक्त स्वतः रोजगार, निर्देशित  किया गया है कि कौशल पंजी पर जनपद के अधिक से अधिक पात्र व इच्छुक मनरेगा श्रमिकों का कौशल पंजीकरण करवाना सुनिश्चित करें। राज्य निदेशक, आरसेटी से अपेक्षा  की गयी है कि वह कौशल पंजी पर पंजीकृत मनरेगा श्रमिकों को उनके इच्छुक व्यवसायों में ग्रामीण स्व-रोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आरसेटी) से  बैच बनवा कर प्रशिक्षण सुनिश्चित करवायें।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More