13 C
Lucknow

इस बार का लक्ष्य है कि चारधाम यात्रा पर कम से कम 50 प्रतिशत यात्रियों को रूकने, खाने, शौचालय व बायोमेट्रिक रजिस्टेशन की फुलप्रूफ व्यवस्था दी जा सके

उत्तराखंड
देहरादून, 16 मार्च, 2015, इस बार हमारा लक्ष्य है कि चारधाम यात्रा पर कम से कम 50 प्रतिशत यात्रियों को लाया जा सके। इसके लिए यात्रियों के रूकने, खाने, शौचालय व बायोमेट्रिक रजिस्टेशन की फुलप्रूफ व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। सोमवार को देर सांय सचिवालय में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से चारधाम व हेमकुंटसाहिब  यात्रा की व्यवस्थाओं के संबंध में समीक्षा की। उन्होंने कहा कि स्थानीय लोगों को भी यात्रा के माध्यम से अपनी आजीविका के पर्याप्त अवसर मिलें। बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन के केंद्रों को जनरेटर व बेट्री का बेकअप दिया जाए। ताकि श्रद्धाुलओं को परेशानी न हो। केदारनाथ पैदल मार्ग पर विशेष ध्यान दिया जाए। फ्लेक्सी शौचालयों के स्थान पर स्थाई प्रकृति के प्रीफेब शौचालय बनाए जाएं। जानकी चट्टी, सोनप्रयाग व गोविंदघाट में अस्थाई गैस एजेंसी खोली जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष यात्रा को प्रारम्भ किया गया था। इस वर्ष बड़ी संख्या में श्रद्धालु चारधाम यात्रा पर आ सकते हैं। हमारी तैयारियांे में कोई कमी नहीं होनी चाहिए। डीएम रूद्रप्रयाग ने बताया कि यात्रियों के बायोमेट्रिक रजिस्ट्रेशन के 4 केंद्र बनाए जा रहे हैं। केदारनाथ मार्ग पर सीतापुर में रूकने की कोई समस्या नहीं है। जबकि गौरीकुंड, जंगलचट्टी, भीमबली, लेनचोली, बड़ा लेनचोली, केदारनाथ बेस केम्प, केदारनाथ हेलीपेड क्षेत्र व केदारपुरी में कुल मिलाकर लगभग 4 हजार लोगों के रूकने की समुचित व्यवस्था है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि टेंट आदि में स्थानीय लोगों की सहभागिता सुनिश्चित की जाए। मंदिर समिति एक-दो जगह प्रसाद आदि निशुल्क उपलब्ध करवा सकती है। शेष स्थानों पर वाजिब दरों पर यात्रियों को भोजन उपलब्ध करवाया जाए। सीएम ने कहा कि प्रयास किया जाए कि केदारनाथ पैदल मार्ग को जीरो प्लास्टिक क्षेत्र रखा जा सके। यात्रियों को यात्रा प्रारम्भ करते समय थैला उपलब्ध करवाया जाए ताकि उसमें कचरा आदि रख सके। बाद में कलेक्शन पाॅइंट पर वापिस ले लिया जाए।
      मुख्यमंत्री ने  कहा कि बद्रीनाथ मार्ग पर भी विशेष ध्यान रखना होगा। क्योंकि यहां यात्रियों की संख्या अधिक होगी, इसी के अनुरूप सुविधाएं विकसित हों। गोविंदघाट, पुलना व पांडुकेश्वर में अतिरिक्त टेंट लगाए जाने के लिए भूमि चिन्हित कर ली जाए। चमोली जिले के जिलाधिकारी ने बताया कि बदरीनाथ में 8 से 9 हजार यात्रियों के रूकने की व्यवस्था है। 12 स्थानों पर सुलभ द्वारा 400 नए शौचालय बनाए जा रहे हैं। जिलाधिकारी उत्तरकाशी ने बताया कि गंगोत्री व यमुनोत्री मार्ग में निजी व सरकारी दोनों में 12 हजार के करीब यात्रियों के रूकने की सुविधा है।
इस अवसर पर, केदारनाथ-बदरीनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष गणेश गोदियाल, विधायक व संसदीय सचिव शैलारानी रावत, राजेंद्र भण्डारी, विधायक सुबोध उनियाल, राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष नरेंद्रजीत सिंह बिंद्रा, जिला पंचायत अध्यक्ष रूद्रप्रयाग लक्ष्मी राणा, अपर मुख्य सचिव राकेश शर्मा, सचिव डा.उमाकांत पंवार, अमित नेगी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Related posts

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More