जी-20 शिखर सम्मेलन के लिए 20 प्रस्तावित स्थलों में से 8 उत्तर पूर्व भारत के हैं

देश-विदेश

उत्तर पूर्वी क्षेत्र के संस्कृति, पर्यटन और विकास मंत्री (डीओएनईआर) श्री जी. किशन रेड्डी ने जी-20 बैठक से पहले सभी तीन मंत्रालयों के लिए एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। इसमें डीओएनईआर, पर्यटन, संस्कृति विभाग के प्रमुख और सभी 8 उत्तरी-पूर्वी राज्यों के सचिव और वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। जी-20 के तहत विभिन्न विषयों पर जनवरी 2023 से (प्रत्येक राज्य में एक और गुवाहाटी में चार) कुल 11 बैठकें उत्तरी-पूर्वी में आयोजित की जानी है। यह विचार-विमर्श उत्तरी-पूर्वी क्षेत्र में घटनाओं को प्रभावशाली बनाने के लिए प्रमुख पहलुओं पर फोकस था। मंत्री ने इस आयोजन के लिए केंद्र और राज्य दोनों स्तरों पर प्रणालियों की पूर्ण तत्परता की कामना की। उनका मानना था कि उत्तर पूर्व में प्राकृतिक सुंदरता से दुनिया को रूबरू होना चाहिए।

मंत्री ने कहा कि आज, 1 दिसंबर 2022 को अपने देश ने औपचारिक रूप से ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ के संदेश के साथ प्राचीन संस्कृति और एकता के लोकाचार के साथ जी-20 की अध्यक्षता ग्रहण की। जी-20 एकता की दृष्टि को बढ़ावा देता है। इसलिए थीम: ‘वन अर्थ, वन फैमिली, वन फ्यूचर’ को अपनाया गया है।

जी20 राष्ट्राध्यक्षों और शासनाध्यक्षों का शिखर सम्मेलन 9-10 सितंबर 2023 को जम्मू-कश्मीर में होगा। दुनिया भर में हमारे मेहमानों को भारत की अद्भुत विविधता, समावेशी परंपराओं और सांस्कृतिक समृद्धि का समृद्ध अनुभव प्रदान करने के लिए जी20 के तहत लगभग 200 बैठकें होंगी, जिनकी देश भर के विभिन्न शहरों में योजना बनाई गई है।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More