17 C
Lucknow

गन्ने की फसल में रेड-राॅट (लाल सड़न) के प्रकोप के रोकथाम एवं उन्मूलन हेतु समस्त गन्ना परिक्षेत्रों को एडवाइजरी जारी

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: प्रदेश के आयुक्त, गन्ना एवं चीनी श्री संजय आर. भूसरेड्डी द्वारा गन्ने के कैंसर के रूप में विख्यात रेड-राॅट (लाल सड़न) रोग के प्रकोप की रोकथाम/प्रभावी नियंत्रण हेतु समस्त गन्ना परिक्षेत्रों को एडवाइजरी जारी करते हुए इस रोग से प्रभावित क्षेत्रों में बीज प्रतिस्थापन हेतु माइक्रोप्लान तैयार कर उसका क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के निर्देश जारी किये गये हैं।

इस संबंध में विस्तृत जानकारी प्रदान करते हुए गन्ना आयुक्त, द्वारा बताया गया कि गन्ने में वर्षा काल के समय रेड-राॅट रोग का प्रकोप अत्यधिक होने की सम्भावना होती है। यह रोग गन्ने में बीज के माध्यम से फैलता है तथा ऐसी गन्ना प्रजातियां जो लम्बे समय से कृषकों द्वारा बोई जा रही है उनमें अनुवांशिक ह्ास होने के कारण रोग प्रतिरोधक क्षमता घटती है और उन प्रजातियों में रेड-राॅट बीमारी लगने की सम्भावना बढ़ जाती है। इस बीमारी से गन्ने की फसल में बहुत अधिक नुकसान होता है इस नुकसान से बचने के लिए वैज्ञानिक संस्तुतियां है कि कम से कम 40 प्रतिशत गन्ना क्षेत्रफल में को.0238 के स्थान पर नई अगेती गन्ना प्रजातियां यथाः- को..0118 को.शा..08272 को..98014 आदि की बुवाई की जाये तथा किसी खेत में गन्ने के रोग ग्रस्त होने पर उसमे गन्ना न बोकर अन्य फसलों के साथ फसलचक्र पद्धति अपनाई जाये।

श्री भूसरेड्डी ने इस रोग के बचाव के उपायों पर प्रकाश डालते हुए यह भी बताया कि रेड-राॅट से प्रभावित क्षेत्रों में केवल शरदकालीन गन्ने की बुवाई ही की जाये तथा शीत एवं वर्षा ऋतु के मध्य गन्ने के स्थान पर अन्य फसलों की खेती की जाये। जिन क्षेत्रों में रेड-राॅट रोग का प्रभाव 20 प्रतिशत से अधिक है वहां गन्ने की तत्काल कटाई कर दी जाये और प्रभावित खेतों की गहरी जुताई कर गन्ने के ठूॅंठों को नष्ट किया जाये। गन्ने की बुवाई हेतु पौधशालाओं में स्वस्थ सिंगल बड से गन्ना बीज पैदा करने तथा सिंगल बड सैटस कारबेन्डाजिम के 2 ग्राम प्रति लीटर घोल में बुवाई से पूर्व आधे घण्टे तक डुबाने के उपरान्त ही गन्ना बुवाई की सलाह दी गयी हैं साथ ही ट्राईकोडर्मा कल्चर फोरटीफाईड आरगैनिक का प्रयोग भी इस रोग से बचाव हेतु आवश्यक है। जिन क्षेत्रों में नम, गर्म वायु बीज उपचार संयंत्र उपलब्ध है वहां शत-प्रतिशत बीज उपयंत्रों से शोधन कर बुवाई के निर्देश दिये गये हैं।

प्रभावित क्षेत्रों के आस-पास जहां गन्ने की फसल है उन क्षेत्रों में सितम्बर माह तक कड़ी निगरानी करने तथा कल्ले निकलने की अवस्था में रेड-राॅट रोग का प्रभाव बढ़ने पर प्रभावित पौधे को निकाल कर नष्ट करने और शेष फसल पर सिस्टमेटीक फंजीसाइड जैसेः-कारबेन्डाजिम, थियोफैनेटेमेथाईल आदि का प्रयोग प्रत्येक माह के अंतराल पर किया जाना आवश्यक है।

आयुक्त द्वारा एडवाइजरी के माध्यम से समस्त फील्ड अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि गन्ना कृषकों को पम्पलेट, दैनिक समाचार पत्रों, मेला, वाॅल पेटिंग एवं गोष्ठियों के माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए रेड-राॅट की रोकथाम हेतु जागरूक किया जाये तथा गन्ना बुवाई हेतु प्रमाणित बीज का प्रयोग करने के लिए कृषकों में स्वस्थ गन्ना बीज का उत्पादन एवं वितरण भी सुनिश्चित किया जाये।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More