16 C
Lucknow

मिशन शक्ति अभियान से जुडे़ सभी विभाग जनजागरूकता के कार्यक्रमों का आयोजन करें: सीएम

उत्तर प्रदेश

लखनऊमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां लोक भवन में महिलाओं और बेटियों को सशक्त व स्वावलम्बी बनाने के लिए चल रहे ‘मिशन शक्ति’ अभियान के चैथे चरण के शुभारम्भ की तैयारियों की समीक्षा की।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान और स्वावलम्बन के लिए राज्य सरकार द्वारा संचालित मिशन शक्ति अभियान का समाज पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। आगामी 14 अक्टूबर, 2023 को प्रदेश भर में एक साथ वाहन रैली निकालकर केन्द्र और राज्य सरकार की महिलाओं से जुड़ी योजनाओं के बारे में लोगों को जागरूक करते हुये मिशन शक्ति के नवीन चरण को प्रारम्भ किया जाए।
यह अभियान प्रत्येक ग्राम पंचायत व वॉर्ड में आयोजित किया जाए। ग्राम प्रधान, महिला पुलिस बीट, लेखपाल, पंचायत सचिव, आशा वर्कर, आंगनबाड़ी,  ए0एन0एम0 की इसमें सहभागिता सुनिश्चित की जाए। इस अवसर पर केन्द्र व राज्य सरकार की महिला सशक्तिकरण से सम्बन्धित योजनाओं की जानकारी व महिला सुरक्षा जागरूकता जैसे कार्य सम्पन्न हों।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बीट अधिकारी सप्ताह में एक दिन पंचायत भवन में जाकर प्राथमिकता के आधार पर महिलाओं की समस्याओं का निस्तारण करें। लोगों को शासन की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं से अवगत कराएं। योजनाओं का लाभ प्राप्त करने में आ रही समस्याओं का निराकरण करने के कार्य को आगे बढ़ाएं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस अभियान के दौरान प्रदेश भर के बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग के विद्यार्थियों को साथ में जोड़ते हुए उनके द्वारा जनजागरूकता की प्रभात फेरियां निकाली जाएं। इसके साथ ही गृह विभाग मिशन शक्ति के जागरुकता अभियान के लिए पब्लिक एड्रेस सिस्टम का इस्तेमाल करे। मिशन शक्ति अभियान से जुडे़ सभी विभाग आगामी 14 और 15 अक्टूबर, 2023 को जनजागरूकता के कार्यक्रमों का आयोजन करें। वहीं
16 अक्टूबर, 2023 से विभागवार निर्धारित कार्यक्रमों को भव्य आयोजन किया जाए।
प्रदेश के सभी जिलों में ट्रैफिक का प्रभावी संचालन और इसकी मॉनिटरिंग अत्यन्त आवश्यक है। ट्रैफिक की प्रभावी मॉनिटरिंग की जाए। जाम की समस्या न बनने दी जाए। प्रदेशवासियों के साथ प्रशासन और पुलिस के लोग सहयोगपूर्ण व्यवहार करें। आगामी त्योहारों के दृष्टिगत पटाखों की दुकानें भीड़-भाड़ वाले इलाके में न हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। आतिशबाजी भीड़-भाड़ से दूर हो।
नगर विकास विभाग सिटी बसों में पैनिक बटन की व्यवस्था को सुचारु रूप से चालू करें। मुख्य चैराहों व प्रमुख स्थलों पर साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करें। बस ड्राइवर, ई-रिक्शा चालक, टू-व्हीलर चालक का पंजीकरण जरूर किया जाए। किरायेदारों के वैरिफिकेशन के कार्य को अनिवार्य किया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पर्वों एवं त्योहारों का आगामी एक माह का समय संवेदनशील है। यह समय त्योहार की उमंग से परिपूर्ण होगा। बाजारों में भीड़ होगी। विभिन्न आयोजनों में बड़ी संख्या में महिलाएं, बच्चे, वरिष्ठ नागरिक आदि की सहभागिता होगी। इसके दृष्टिगत विशेष सतर्कता बरतने के साथ-साथ सभी आवश्यक सुरक्षा उपाय सुनिश्चित किए जाएं। पुलिस पेट्रोलिंग बढ़ायी जाए। प्रदेश, कमिश्नरी और रेंज स्तर पर कण्ट्रोल रूम सक्रिय कर कानून व्यवस्था की स्थिति पर निरन्तर नजर रखी जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में परम्परागत रूप से माँ दुर्गा की प्रतिमाएं स्थापित की जाती रही हैं। जिसको लेकर दुर्गा पूजा आयोजन समितियों से संवाद के माध्यम से प्रतिमाओं की स्थापना सुरक्षित स्थान जैसे-सार्वजनिक पार्क आदि में करायी जाए, ताकि सड़क पर सामान्य यातायात प्रभावित न हो। इस कार्यवाही में लोगों की आस्था और जनभावना का पूरा सम्मान किया जाए।
मूर्ति विसर्जन कार्यक्रम के समय पुलिस बल की तैनाती के लिए स्थानीय जरूरतों के मुताबिक रणनीति तैयार की जाए। नदियों में विसर्जन न हो, इसको लेकर पुख्ता कार्ययोजना तैयार की जाए। इसके साथ ही, मूर्ति विसर्जन समितियों से संवाद कर अस्थायी तालाबों में मूर्तियों का विसर्जन कराया जाना उचित रहेगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पर्व-त्योहार में प्रशासन द्वारा आमजन को जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं। धार्मिक परम्परा/आस्था को सम्मान दें। लेकिन परम्परा के विरुद्ध कोई कार्य न हो। आयोजकों को कार्यक्रम की अनुमति दें, लेकिन यह सुनिश्चित हो कि हर कोई नियम-कानून का पालन करे।
संवेदनशील क्षेत्रों में अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की जाए। हर दिन सायंकाल पुलिस बल फुट पेट्रोलिंग जरूर करे। पी0आर0वी0 112 एक्टिव रहे। अराजक तत्वों के साथ पूरी कठोरता से निपटा जाए।
थाना, सर्किल, जिला, रेंज, जोन, मंडल स्तर पर तैनात वरिष्ठ अधिकारीगण अपने-अपने क्षेत्र के धर्मगुरुओं, समाज के अन्य प्रतिष्ठितजन के साथ संवाद बनाएं। लोगों के लिए सकारात्मक संदेश जारी कराएं। पीस कमेटी की बैठक कर लें। मीडिया का सहयोग लें, ताकि शांति और सौहार्द का माहौल बना रहे।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि दुर्गा पूजा आस्था के उत्साह का आयोजन है। परम्परागत रूप से नृत्य, गीत, संगीत इसका हिस्सा रहे हैं। यह सुनिश्चित करें कि डी0जे0, गीत-संगीत आदि की आवाज निर्धारित मानकों के अनुरूप ही हो। अभियान चलाकर धार्मिक स्थलों पर लगे लाउड स्पीकर की ध्वनि पूर्व की भांति मानक के अनुरुप निर्धारित कराई जाए। साथ ही मा0 सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन का शत-प्रतिशत पालन कराया जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि त्वरित कार्यवाही और संवाद-सम्पर्क अप्रिय घटनाओं को सम्भालने में सहायक होती है। ऐसे में किसी भी अप्रिय घटना की सूचना पर बिना विलम्ब किए जिलाधिकारी/पुलिस कप्तान खुद मौके पर पहुंचें। संवेदनशील प्रकरणों में वरिष्ठ अधिकारी लीड करें। बीट स्कीम लागू करें। अवैध वाहन स्टैंड को तत्काल समाप्त किया जाए।
महिला सुरक्षा, सम्मान व स्वावलंबन के संकल्प की पूर्ति में ‘सेफ सिटी’ परियोजना अत्यन्त उपयोगी सिद्ध हो रही है। ऐसे में परियोजना के पहले चरण में 17 नगर निगमों और जनपद गौतमबुद्धनगर में बचे कार्यों को जल्द पूरा किया जाए। परियोजना को सफलता जन सहयोग से ही मिलेगी। ऐसे में व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, शिक्षण संस्थानों में अनिवार्य रूप से सी0सी0टी0वी0 लगाए जाएं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आमजन, व्यापारियों, संस्थान के संचालकों को जागरूक कर उन्हंे सी0सी0टी0वी0 के महत्व को बताया जाए। उन्हें सी0सी0टी0वी0 कैमरे लगाने के लिए प्रेरित करें। लोग अपनी सुविधा अनुसार अपने सी0सी0टी0वी0 फुटेज का डाटा अपने पास सुरक्षित रख सकते हैं, लेकिन यह सुनिश्चित किया जाना चाहिये कि आवश्यकता पड़ने पर फुटेज केवल पुलिस को ही उपलब्ध कराई जाए।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More