20 C
Lucknow

सीएसआईआर – एनआईएससीपीआर और केएएमपी: मोटे अनाज पर ज्ञान साझा करने पर सत्र

देश-विदेश

सीएसआईआर-एनआईएससीपीआर के सहयोग से केएएमपी ने अंतर्राष्ट्रीय मिलेट्स (मोटा अनाज) वर्ष मनाने के लिए छात्रों के लिए एक और ज्ञान साझाकरण सत्र आयोजित किया। यह विशेष कार्यक्रम 2023 को अंतर्राष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष के रूप में मनाने के लिए खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) को भारत के सफल प्रस्ताव की मान्यता के तहत आयोजित किया गया था। सत्र का उद्देश्य छात्रों को कृषि, पोषण और सतत विकास में मोटे अनाज के महत्व के बारे में शिक्षित करना था।

IMG_256

सत्र की मेजबानी श्री अनिकेत अरोड़ा (आउटरीच कॉर्डिनेटर, केएएमपी) ने की, जहां उन्होंने पूरे भारत में 5वीं से 12वीं कक्षा के 500 से अधिक छात्रों को संबोधित करने के लिए सीएसआईआर के राष्ट्रीय विज्ञान संचार और नीति अनुसंधान संस्थान में प्रधान वैज्ञानिक डॉ. चारू लता का स्वागत किया। इस कार्यशाला का उद्देश्य छात्रों को मोटे अनाज की व्यापक समझ प्रदान करना है, जिसमें उनकी परिभाषा, भारत में ऐतिहासिक प्रासंगिकता, विविध प्रकार, लाभों की एक श्रृंखला और बहुमुखी अनुप्रयोग शामिल हैं।

IMG_256

इस ज्ञानवर्धक कार्यशाला के दौरान, डॉ. चारु लता ने मोटे अनाज के बारे में गहनता से बताया, जिससे छात्र इन अनाजों के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, पोषण संबंधी और टिकाऊ पहलुओं की सराहना कर सके। इससे न केवल उनके ज्ञान का विस्तार हुआ बल्कि उन्हें मोटे अनाज को भोजन और कृषि परिदृश्य के एक महत्वपूर्ण हिस्से के रूप में अपनाने के लिए भी प्रोत्साहित किया गया। कार्यशाला ने अंतर्राष्ट्रीय मिलेट्स वर्ष को बढ़ावा देने और 21वीं सदी में इन अनाजों के सतत उपयोग के लिए एक शैक्षिक मंच के रूप में कार्य किया।

IMG_256

श्री अनिकेत अरोड़ा ने छात्रों और शिक्षकों को इस वर्ष विभिन्न सीएसआईआर प्रयोगशालाओं और इसरो केंद्रों पर केएएमपी द्वारा आयोजित आगामी वैज्ञानिक भ्रमण और शिक्षक प्रशिक्षण प्रोग्रामरों के बारे में भी जानकारी दी।

सीएसआईआरएनआईएससीपीआर और केएएमपी के बारे में:

सीएसआईआरराष्ट्रीय विज्ञान संचार और नीति अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआरएनआईएससीपीआर) भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की घटक प्रयोगशालाओं में से एक है। यह साक्ष्य-आधारित नीति अनुसंधान और अध्ययन पर केंद्रित विज्ञान संचार, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार (एसटीआई) के क्षेत्र में विशेषज्ञता रखता है।

नॉलेज एंड अवेयरनेस मैपिंग प्लेटफॉर्म वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) – नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस कम्युनिकेशन एंड पॉलिसी रिसर्च (एनआईएससीपीआर) तथा औद्योगिक भागीदार एम/एस नयसा कम्युनिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड  (एनसीपीएल) की एक पहल और ज्ञान गठबंधन है। इसका लक्ष्य रचनात्मकता, सार्थक शिक्षण, आलोचनात्मक पढ़ने और सोचने का कौशल विकसित करना है जो छात्रों की अंतर्निहित क्षमताओं को सामने लाता है।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More