कम से कम खर्च पर श्रद्धालुओं को मिलेगी ठहरने की सुविधा- जयवीर सिंह

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: कृष्ण की नगरी मथुरा के नन्दगांव में लगभग 25 करोड़ रूपये की लागत से पर्यटक सुविधा केन्द्र का निर्माण किया जायेगा। इस पर्यटक केन्द्र के अस्तित्व में आ जाने से देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को ठहरने की सुविधा प्राप्त होगी। खासतौर से ऐसे पर्यटक/श्रद्धालु जो महंगे होटल का खर्च उठाने में सक्षम नहीं होते। इस पर्यटक सुविधा केन्द्र में पार्किंग की व्यवस्था के अलावा फूडकोर्ट, रेस्ट रूम समेत अन्य सुविधाएं उपलब्ध होंगी।
यह जानकारी आज यहां प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री जयवीर सिंह ने दी। उन्होंने बताया कि मथुरा में वृन्दावन, गोकुल, महावन, बल्देव, बरसाना, नन्दगांव तथा गोवर्धन जैसे विश्वविख्यात पर्यटन स्थल मौजूद हैं। पूरे वर्ष भर घरेलू तथा विदेशी श्रद्धालु बड़ी संख्या में आते रहते हैं। जिले में तीर्थनगरी नंदगांव धार्मिक और आस्था की दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान रखता है। यहां से बरसाना की दूरी मात्र आठ किलोमीटर और कोकिला वन तीन किलोमीटर पर है, जहां हमेशा श्रद्धालु आते रहते हैं।
पर्यटन मंत्री ने बताया कि इस केन्द्र में कम से कम खर्च पर विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएंगी। इसकी पार्किंग में 31 बसें तथा 245 कार खड़ी हो सकेगी। इस केन्द्र में स्थित फूटकोड की खासियत होगी कि यह खुला और कवर्ड दोनों होगा। श्रद्धालु अपने सुविधा के अनुसार इसका उपयोग कर सकते हैं। भूतल पर दो वीआईपी रेस्ट रूम तथा प्रथम तल पर 09 रेस्ट रूम की व्यवस्था की जायेगी। इसके अलावा 86 बेड का डारमेटरी का निर्माण होगा। उन्होंने बताया कि वृन्दावन में पहले से ही इस तरह की सुविधाएं श्रद्धालुओं को उपलब्ध करायी जा रही है।
श्री जयवीर सिंह ने बताया कि वृंदावन में पहले से पर्यटक जनसुविधा केंद्र का निर्माण किया जा चुका है। यहां कई डारमेटरी, खुली रसोई समेत कई अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं। यहां भी बड़ी पार्किंग की व्यवस्था की गई है। इसी तर्ज पर नंदगांव में भी लोगों को कम कीमत पर अच्छी सुविधाएं उपलब्ध कराने का प्रयास है। भगवान श्रीकृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में देश-विदेश से बड़ी संख्या में श्रद्धालु आते हैं। उनकी सुविधाओं का लगातार विस्तार किया जा रहा है। इसी क्रम में नंदगांव में पर्यटक जनसुविधा केंद्र बनाने की तैयारी है। उन्होंने बताया कि काशी एवं अयोध्या की तरह मथुरा को भी विभिन्न अवस्थापना सुविधाओं से सुसज्जित किया जा रहा है।
पर्यटन मंत्री ने बताया कि पर्यटन सेक्टर में असीमित रोजगार तथा आमदनी की सम्भावनाओं को देखते हुए राज्य सरकार पर्यटन सुविधाओं के विकास पर विशेष जोर दे रही है। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के 75 जनपदों में कम से कम एक अथवा अधिक पर्यटन स्थलों को कनेक्टिविटी तथा बुनियादी सुविधाओं से लैश किया जा रहा है। प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का विशेष फोकस पर्यटन सेक्टर पर है। इस सेक्टर से छोटे कारोबारियों तथा सेवा प्रदाता व्यवसायियों का हित जुड़ा हुआ है।
श्री जयवीर सिंह ने बताया कि पर्यटन सेक्टर को आधुनिक जरूरतों के मुताबिक विकसित करने के लिए पर्यटन नीति-2022 जारी की गयी है जिसके तहत पर्यटन सेक्टर से जुड़े उद्यमियों को आकर्षक सुविधाएं उपलब्ध करायी जा रही है। पर्यटन विभाग का प्रयास है कि देश की धरती पर कदम रखने वाला हर पर्यटक कहीं न जाकर सबसे पहले उत्तर प्रदेश की ओर आए। उन्होंने बताया कि आधुनिक दौर में पर्यटन सेक्टर का देश की अर्थव्यवस्था में अहम योगदान है। इसलिए पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए राज्य सरकार ने कई कदम उठाये हैं। उन्होंने बताया कि पर्यटन सेक्टर में लगातार हो रही बढ़ोत्तरी को देखते हुए बड़ी संख्या में निवेशक उत्तर प्रदेश की ओर आ रहे हैं।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More