19 C
Lucknow

ग्राम चौपालो से-संवरते गांव-सुधरता जीवन: केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि गांव चौपालों के आयोजन से गांव विकास की योजनाओं के क्रियान्वयन में हलचल तेज हुई है और गांवों के संवरने के साथ ही ग्रामीणों का जीवन स्तर सुधर रहा है, सरकार खुद चलकर गांव व गरीबों के पास जा रही है, ग्राम चौपालों से जहां गांवों में चल रही विभिन्न परियोजनाओं की जमीनी हकीकत का पता चलता है, वहीं सोशल सेक्टर की योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी आ रही है, यही नहीं जिन समस्याओं के निराकरण के लिए ग्रामीणों को तहसील, जिला या राजधानी जाना पड़ता था, उनका समाधान उनके अपने गांव में ही हो जा रहा है। प्रदेश में प्रत्येक शुक्रवार को प्रत्येक विकासखण्ड की 2 ग्राम पंचायतो में आयोजित की जा रही ग्राम चौपालों के उत्साहजनक परिणाम निखर कर सामने आ रहे हैं। प्रदेश में शुक्रवार को ग्राम चौपालों का आयोजन कर जहां लोगों की समस्याओं को समझा और  सुलझाया जा रहा है, वहीं लाभार्थीपरक योजनाओं सहित विकास व निर्माण कार्यों की जमीनी हकीकत को भी परखा जा रहा है।
ग्राम्य विकास विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार 6 जनवरी 23 से अब तक प्रदेश की 43119 ग्राम पंचायतों में ग्राम चौपालो का आयोजन किया जा चुका है, जिनमें 32लाख से अधिक ग्रामीण मौजूद रहे और 2 लाख 17 हजार से अधिक समस्याओं/प्रकरणों का निस्तारण किया गया।
उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने ग्राम्य विकास विभाग के उच्चस्तरीय अधिकारियों को निर्देशित किया है कि ग्राम चौपालो को और अधिक भव्य स्वरूप दिया जाय तथा ग्राम चौपाल में बड़ा बैंक ड्राप लगाया जाय और वहां पर उस ग्राम पंचायत के प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण व मुख्यमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों, विभिन्न प्रकार के पेंशनर्स की सूची,व उस ग्राम के अन्य योजनाओं के लाभार्थियों की सूची प्रदर्शित की जाए। उप मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि यह व्यवस्था खण्ड विकास अधिकारियों के माध्यम से सुनिश्चित की जाए। इसके अलावा ग्राम चौपालों का दो माह का रोस्टर जारी करते हुए उसका प्रचार प्रसार कराया जाय, ताकि अधिक से अधिक लोग ग्राम चौपाल में पहुंच कर अपनी समस्याओं का निस्तारण करा सकें।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More