19 C
Lucknow

पिछले 9 सालों में देश से चोरी की गई 231 प्राचीन वस्तुएं भारत वापस लाई गईं हैं- डॉ जितेंद्र सिंह

देश-विदेशपर्यटनप्रौद्योगिकीव्यापार

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार); प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ), कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने आज कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सत्ता संभालने के बाद पिछले 9 वर्षों में देश से 231 चोरी की गई प्राचीन वस्तुओं को भारत वापस लाया गया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 तक, आजादी के लगभग 70 वर्षों के दौरान  भारतीय मूल की केवल 13 अमूल्य धरोहरें ही पिछली सरकारों द्वारा विदेश से वापस लाई गई थीं ।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि 2014 के बाद कुल 231 वस्तुएं वापस लाई गई और  जिनकी संख्या अब बढ़कर 244 प्राचीन वस्तुएं हो गई हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह के और पुरावशेषों को लाने की प्रक्रिया तेजी से जारी है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00103ET.jpg

प्रगति मैदान में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा उद्घाटित  की  गई पहली  3 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय प्रदर्शनी 2023 के अपने दौरे के दौरान  डॉ जितेंद्र सिंह ने विभिन्न मंडपों को देखते हुए हुए मीडियाकर्मियों को बताया कि पिछले 9 वर्षों में प्रधानमंत्री श्री मोदी के अंतर्गत , कई अनूठी नई पहलें की गईं, जिनमें से एक पहल देश भर में विज्ञान संग्रहालयों की स्थापना है और आकांक्षी जिलों में विज्ञान संग्रहालयों की स्थापना से इसकी शुरुआत की गई थी।

A picture containing clothing, person, person, human faceDescription automatically generated

मंत्री महोदय ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय में जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) के माध्यम से हम पहले ही हिमाचल प्रदेश के आकांक्षी जिले चंबा में संग्रहालय स्थापित कर चुके हैं और  इसका उद्घाटन कुछ महीने पहले किया गया था। उन्होंने बताया कि केरल में वायनाड, उत्तर प्रदेश में सिद्धार्थनगर, हरियाणा में नूंह, राजस्थान में धौलपुर, कर्नाटक में रायचूर और पश्चिम बंगाल में कल्याणी में  तरह के संग्रहालय पहले से ही कार्यात्मक हो गए हैं या शीघ्र ही शुरू होने जा रहे हैं ।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि ये संग्रहालय अन्य बातों  के अलावा पारंपरिक ज्ञान के साथ-साथ पिछले कुछ वर्षों की सफलता की कहानियों को प्रदर्शित करते हैं जैसे भारत से पहली बार कोविड वैक्सीन की सफलता की कहानी, टीकों के माध्यम से रोगों की रोकथाम से संबंधित प्रतिरक्षा प्रणाली का प्रदर्शन और यहां तक ​​कि इनमे विज्ञान प्रश्नोत्तरियां भी शामिल हैं ।

केंद्रीय मंत्री ने टेक्नो मेला, संरक्षण प्रयोगशाला और इस अवसर पर प्रदर्शित प्रदर्शनियों का भी अवलोकन किया। इस भ्रमण के दौरान उन्होंने कहा कि “प्रधानमंत्री मोदी ने हमारी विरासत के संरक्षण और एक नई विरासत के निर्माण को उच्च प्राथमिकता दी है।”

A picture containing clothing, person, person, human faceDescription automatically generated

47वें अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस का उल्लास मनाने के लिए आज़ादी का अमृत महोत्सव के एक भाग के रूप में अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय प्रदर्शनी (एक्सपो)  का आयोजन किया जा रहा है, और  जिसका विषय ‘संग्रहालय, स्थिरता और जन कल्याण’ है। अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय एक्सपो 2023 का उद्घाटन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गत 18 मई 2023 को प्रतिवर्ष मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस पर किया गया था।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि संग्रहालय एक्सपो को संग्रहालयों पर एक समग्र बातचीत शुरू करने के लिए इस प्रकार डिज़ाइन किया गया है जिससे कि वे ऐसे  वर्ष में जब भारत जी-20 की अध्यक्षता कर रहा हो तब वे ऐसे सांस्कृतिक केंद्रों के रूप तब में विकसित हो सकें, जो भारत की सांस्कृतिक कूटनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं ।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने देश की विरासत के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए एक अद्भुत संग्रहालय प्रदर्शनी आयोजित करने के लिए सरकारी अधिकारियों, संग्रहालय पेशेवरों, शिक्षाविदों और संबद्ध सेवा-प्रौद्योगिकी प्रदाताओं सहित विभिन्न हितधारकों के प्रयासों की सराहना की।

मंत्री महोदय ने स्टार ऑब्जेक्ट्स की प्रदर्शनी का दौरा किया जिसमें मुख्य संग्रहालय अध्यक्ष (चीफ क्यूरेटर) सुश्री गौरी कृष्णन परिमू द्वारा संग्रहीत भारत भर के 25+ संग्रहालयों और संस्थानों से 75 संरक्षित कृतियाँ  (क्यूरेटेड ऑब्जेक्ट्स)  शामिल हैं। उन्होंने संग्रहालय, संग्रहालय विज्ञान और संरक्षण और रागमाला चित्रों से संबंधित पुस्तकों पर 500 पुस्तक आवरणों की प्रदर्शनी का भी दौरा किया।

जिस टेक्नो मेले का मंत्री ने दौरा किया, उसमें देश भर के संग्रहालयों और संग्रहालय परियोजनाओं में उपयोग की जा रही तकनीकों को प्रदर्शित करने वाले 55+ बूथ शामिल हैं, जिसमें लोथल समुद्री विरासत परिसर, भारतीय नौसेना संग्रहालय, पुलिस स्मारक संग्रहालय जैसी आगामी परियोजनाओं का प्रदर्शन भी शामिल है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004L1X1.jpg

मंत्री महोदय ने संरक्षण प्रयोगशाला का भी दौरा किया, जो भारत में सामग्री शैलियों में निवारक और उपचारात्मक संरक्षण दृष्टिकोण की कला और विज्ञान को प्रदर्शित करता है।

इस एक्सपो में विशेषज्ञ कक्षा (मास्टर क्लास), पैनल वार्तालाप (डिस्कशन),  कार्यशाला और फिल्म प्रदर्शन एवं वर्चुअल संग्रहालय के शोकेस वाले संग्रहालय प्रदर्शनी सत्र (म्यूजियम एक्सपो सेशन)  भी शामिल हैं।

आजादी का अमृत महोत्सव के तत्वावधान में, केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय पहली बार अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय एक्सपो 2023 का आयोजन कर रहा हैi  यह  तीन दिवसीय कार्यक्रम है और नई दिल्ली के प्रगति मैदान में गुरुवार, 18 मई से शनिवार, 20 मई 2023 तक आयोजित किया जा रहा है।.

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More