भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारा पुराने स्पाइस रूट के गौरव को वापस लेकर आने का एक बेहतरीन अवसर है:पीयूष गोयल

देश-विदेशव्यापार

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता कार्य, खाद्य और सार्वजनिक वितरण तथा वस्त्र मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि “मसाले भारत को एकजुट करते हैं।” केंद्रीय मंत्री 15 से 17 सितंबर 2023 तक नवी मुंबई में आयोजित वर्ल्ड स्पाइस कांग्रेस में आज मुख्य भाषण दे रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत के मसाले पूरे विश्व  में पसंद किये जाते हैं और ये हमारी जानी-मानी व्यापारिक सामर्थ्य के साथ-साथ समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को भी दर्शाते हैं। श्री पीयूष गोयल ने कहा है कि हमें एक बार फिर भारतीय मसालों का वही पुराना आकर्षण वापस लेकर आना है जो दुनिया भर में फैला हुआ था। उन्होंने कहा कि भारत अब अपने दूसरे सर्वश्रेष्ठ स्थान से संतुष्ट नहीं है और हमें मसाला उद्योग जगत में वैश्विक रूप से अग्रणी बनना है। श्री पीयूष गोयल ने इस समारोह के दौरान 2019-2020 और 2020-202 के लिए मसाला निर्यात उत्कृष्टता पुरस्कार भी प्रदान किए।

इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री गोयल ने निर्यात में मूल्य संवर्धन के माध्यम से मसाला उद्योग का विस्तार करने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने मसाला उद्योग के हितधारकों से 2030 तक निर्यात के लिए मौजूदा 4 अरब डॉलर से 10 अरब डॉलर का लक्ष्य हासिल करने के लिए साथ मिलकर काम करने का आग्रह किया। श्री गोयल ने कहा कि इस लक्ष्य हासिल करने के उद्देश्य से सभी को मौजूदा बाजारों के विस्तार के साथ-साथ विस्तारित मूल्य संवर्धन के माध्यम से नए बाजारों पर अपनी पकड़ बनाने के लिए केंद्र सरकार के साथ मिलकर सहयोग करने की आवश्यकता होगी। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री ने यह सुझाव भी दिया कि दुनिया भर में मसालों की बढ़ती खपत को प्रोत्साहित करने के लिए दुनिया भर में रहने वाले भारतीय मूल के 35 मिलियन लोगों को ब्रांड एंबेसडर बनाया जाए।

श्री पीयूष गोयल ने मसाला उद्योग के साझेदारों से समावेशिता की दिशा में प्रयास करने और पर्याप्त उत्पादन बढ़ाने के उद्देश्य से किसानों को सहयोग सुनिश्चित करने का आग्रह किया। उन्होंने भारतीय मसालों के लिए प्रमाणित ब्रांड वैल्यू बनाने के महत्व पर भी चर्चा की।

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता कार्य, खाद्य और सार्वजनिक वितरण तथा वस्त्र मंत्री ने दुनिया के विभिन्न हिस्सों से आए प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए कहा कि वे उनकी भागीदारी से प्रसन्न हैं। उन्होंने अतिथियों से सफल व्यावसायिक सहयोग के साथ-साथ भारतीय आतिथ्य का आनंद लेने की अपील भी की।

श्री गोयल ने पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी और आशा व्यक्त करते हुए कहा कि वे अपने उल्लेखनीय प्रदर्शन एवं उच्च मानक जारी रखेंगे और भविष्य में भी उत्कृष्ट गुणवत्ता वाले मानक स्थापित करेंगे ताकि भारतीय मसालों को पूरी दुनिया में पहचान मिले।

केंद्रीय मंत्री ने 7 साल के अंतराल के बाद वर्ल्ड स्पाइस कांग्रेस आयोजित करने के लिए स्पाइस बोर्ड को बधाई दी और वर्ष 2024 में दिल्ली में मसाला उद्योग की एक विश्व स्तरीय प्रदर्शनी, संगोष्ठी व सम्मेलन आयोजित करने का भी अनुरोध किया। उन्होंने बोर्ड से सभी को आमंत्रित करने के लिए आग्रह किया और कहा कि इस आयोजन के माध्यम से उद्योग जगत के धुरंधरों और विश्व को भारत की क्षमताओं को परखने का मौका मिलेगा।

श्री गोयल ने अपने भाषण के समापन में कहा कि इस कांग्रेस को आयोजित करने के लिए जी20 की भारतीय अध्यक्षता से इतर कोई बेहतर समय नहीं था। उन्होंने कहा कि भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारे का शुभारंभ अतीत के स्पाइस रूट के समान है और इसीलिए हमें वास्तव में इस नई पहल पर ध्यान देना चाहिए जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अन्य विश्व नेताओं के साथ शुरू किया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत-मध्य पूर्व-यूरोप आर्थिक गलियारा पुराने स्पाइस रूट के गौरव को वापस लेकर आने का एक बेहतरीन अवसर है। उन्होंने कहा कि यह भारत के स्वाद और देश द्वारा प्रदान की जाने वाली बहुमुखी प्रतिभा का जश्न मनाने का एक समय है। श्री गोयल ने आग्रहपूर्वक कहा कि आइये, नए बाजारों पर अपनी पकड़ बनाने के लिए आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि जैसे उत्सव के बिना जीवन अधूरा है, वैसे ही मसालों के बिना भोजन अधूरा होता है और हमें इसे दुनिया भर में एक आवश्यक घटक बनाना होगा। श्री पीयूष गोयल ने कहा कि भारतीय मसालों की गाथा पूरी दुनिया में कही और लिखी जानी चाहिए। आइए देखें कि कैसे हमारी दादी-नानी के नुस्खे दुनिया के लिए इलाज बन सकते हैं। आइए भारत को मसालों का पसंदीदा स्रोत बनाएं और शेष विश्व का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करें। उन्होंने कहा कि यदि हम सभी एक टीम के रूप में मिलकर कार्य करें तो हम वाणिज्य एवं निर्यात की दुनिया को प्रोत्साहित कर सकते हैं। श्री गोयल ने इस अवसर पर उपस्थित लोगों से अपील करते हुए कहा कि आइए हम मसालों के जादू से दुनिया को मंत्रमुग्ध करें और आने वाली पीढ़ियों के लिए इस जादू को संरक्षित रखें।

इस अवसर पर भारत सरकार में अपर सचिव एवं मसाला बोर्ड के अध्यक्ष श्री अमरदीप सिंह भाटिया, भारत सरकार के विदेश व्यापार विभाग में अपर सचिव और महानिदेशक श्री संतोष कुमार सारंगी, स्पाइस बोर्ड के सचिव के श्री डी साथियान, स्पाइस बोर्ड में निदेशक (विपणन) श्री बशिष्ठ नारायण झा, दुनिया भर से आए उद्योग पेशेवर, उत्पादक, व्यापारी, संसाधक, निर्यातक तथा नियामक भी उपस्थित थे।

वर्ल्ड स्पाइस कांग्रेस के उद्घाटन समारोह के बाद उत्पाद शुभारंभ, व्यावसायिक चर्चा और तकनीकी वार्ता के साथ-साथ ‘स्पाइस रिवॉल्यूशन – प्रमोटिंग वैल्यू एडिशन इन ग्लोबल स्पाइस ट्रेड’ नामक पुस्तक का विमोचन किया गया। केंद्रीय मंत्री ने कंपनियों को मसाला उद्योग से संबंधित नवीन उत्पादों, ब्रांड और सेवाओं का उल्लेख करने के लिए एक मंच प्रदान किया। इस कार्यक्रम के दूसरे दिन का समापन कुकरी शो के साथ हुआ, जो आगंतुकों के लिए एक शानदार अनुभव था। इस तरह का 14वां सम्मेलन नीति निर्माताओं, नियामक निकायों, मसाला व्यापार संगठनों, सरकारी प्रतिनिधियों और विभिन्न देशों के तकनीकी विशेषज्ञों सहित विविध प्रतिभागियों को एक साथ लेकर आया है। इस कार्यक्रम में भारत और दुनिया भर से आए हुए 1000 से अधिक प्रतिनिधि शामिल हुए। वे विश्वव्यापी मसाला व्यापार के मुद्दों एवं अवसरों पर चर्चा करने के लिए यहां पर उपस्थित हुए हैं।

वर्ल्ड स्पाइस कांग्रेस 2023 ने एक अनुभव क्षेत्र भी तैयार किया है। यह प्रतिनिधियों एवं प्रतिभागियों के लिए स्वाद, सुगंध और दृश्य इंद्रियों से संबंधित मसालों का समग्र अनुभव प्राप्त करने के लिए प्रदर्शनियों का एक अभिनव तरीका है। वर्ल्ड स्पाइस कांग्रेस में एक प्रमुख स्थान पर रहा यह क्षेत्र आगंतुकों को मसालों की दुनिया का व्यावहारिकता का अनुभव प्रदान करता है।

वर्ल्ड स्पाइस कांग्रेस के बारे में जानकारी:

वर्ल्ड स्पाइस कांग्रेस (डब्ल्यूएससी) वास्तव में वैश्विक मसाला उद्योग का समूह है, जो अपनी तीन दशक लंबी उपस्थिति के दौरान इस क्षेत्र की चिंताओं तथा विचारों पर विचार-विमर्श करने के लिए सबसे उपयुक्त मंच बन चुका है। भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण में विभिन्न व्यापार और व खाद्य सुरक्षा पहल, हालिया विकास, चिंताओं एवं भविष्य की संभावनाओं पर मसाला उद्योग के प्रमुख कारोबारियों- दुनिया भर के उत्पादकों, व्यापारियों, संसाधकों, निर्यातकों और नियामकों द्वारा विस्तार से चर्चा तथा विचार-विमर्श किया जाता है।

स्पाइस बोर्ड इंडिया के बारे में:

स्पाइस बोर्ड (भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत) भारतीय मसालों के विकास और विश्वव्यापी प्रचार के लिए कार्यरत मुख्य संगठन है। स्पाइस बोर्ड भारतीय निर्यातकों तथा विदेश में आयातकों के बीच एक अंतरराष्ट्रीय कड़ी की तरह है। यह भारतीय मसालों की उत्कृष्टता के लिए विभिन्न गतिविधियों का नेतृत्व कर रहा है, जिसमें मसाला उद्योग जगत के हर वर्ग को शामिल किया गया है। स्पाइस बोर्ड ने अपनी विकास एवं प्रचार रणनीतियों के लिए गुणवत्ता और स्वच्छता को प्रमुख स्तंभ बनाया हुआ है।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More