20 C
Lucknow

पीएम आवास योजना के पात्रों व अपात्रों की सूची पंचायत भवनों पर लिखाई जाए: केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि ब्लाक प्रमुख व खण्ड विकास अधिकारी आपसी तालमेल व समन्वय बनाकर विकास योजनाओं को धरातल पर उतारें। कहा कि विकास कार्य धरातल पर नजर आने चाहिए। कहा कि ब्लाक प्रमुख, गरीब कल्याण और गांव-गरीब के लिए संचालित योजनाओं के क्रियान्वयन में सहभागी बने। कहा कि ब्लाक प्रमुख, खण्ड विकास अधिकारी, प्रधान व क्षेत्र पंचायत सदस्य  प्रत्येक महीने के पहले सप्ताह में ब्लाक मे बैठक अनिवार्य रूप से करें, और विकास योजनाओं को अमली जामा पहनाने में अपनी सकारात्मक भूमिका का निर्वहन करें, समस्याओं का समाधान भी करें, जो मसले ब्लाक की मीटिंग में न हल होने वाले हो, उन्हें जिला स्तर पर होने वाली बैठक में रखें। महीने के अन्तिम सप्ताह में जिला अधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी, ब्लाक प्रमुखों के साथ मीटिंग करेंगे।श्री केशव प्रसाद मौर्य आज इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित लखनऊ मंडल के ब्लॉक प्रमुखों व खंड विकास अधिकारियों की कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे।
उप मुख्यमंत्री ने लखनऊ मंडल के सभी जिलों के ब्लॉक प्रमुखों से सीधे संवाद करते हुए ग्राम विकास की योजनाओं को बेहतर तरीके से लागू करने के लिए सुझाव के लिए और उनकी समस्याएं भी सुनी और कहा कि उनके सुझावों का संज्ञान लेकर नियमानुसार यथोचित करवाई की जाएगी। श्री मौर्य ने कहा कि अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के बीच संवादहीनता समाप्त होगी, तो विकास की रफ्तार और तेज होगी। अधिकारी/कर्मचारी और जनप्रतिनिधि मिलकर गांव में विकास के नये कीर्तिमान और नये प्रतिमान स्थापित करें। उन्होंने कहा कि हम सबकी जिम्मेदारी है, कि गरीब कल्याण की योजनाओं का लाभ हर पात्र व्यक्ति को हर हाल में मिले। उपमुख्यमंत्री ने जोर देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण व मुख्यमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के पात्र लाभार्थियों तथा अपात्र लोगों की सूची पंचायत भवनों पर स्पष्ट रूप से लिखाई जाए, जिससे किसी प्रकार की भ्रम की स्थिति ना रहे। ब्लॉक प्रमुखगण, ग्राम विकास की योजनाओं के क्रियान्वयन में प्रबलता के साथ सहभागी बने और योजनाओं की पहरेदारी भी करें।

उन्होंने कहा कि चौपाल से पूर्व ब्लाक प्रमुखों के नेतृत्व में गांवों में स्वच्छता अभियान चलाया जाए। ब्लॉक प्रमुख ग्राम चौपाल में जरूर प्रतिभाग करें और ग्रामीणों की समस्याओं के समाधान में अपना सकारात्मक सहयोग प्रदान करें। ग्राम चौपालों की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि लखनऊ मण्डल में 5734 ग्राम चौपाल आयोजित की गयी है, जिसमें 4 लाख 57 हजार लोग आये और 25549 प्रकरणों का निस्तारण किया गया।
उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि महिला सशक्तिकरण के कार्यों में भी सहयोग प्रदान करें, स्वयं सहायता समूह की दीदियों को सहयोग प्रदान करें, इससे महिला सशक्तिकरण होगा, महिला सशक्त होने से परिवार सशक्त होगा और परिवार सशक्त होगा तो देश के आत्मनिर्भर बनने का मार्ग भी आसान होगा। उन्होंने कहा कि क्षेत्र पंचायत की मीटिंग में जिला स्तरीय नामित अधिकारी अनिवार्य रूप से प्रतिभागी करें, इसकी व्यवस्था मुख्य विकास अधिकारी सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि आवास योजनाओं के लाभार्थियों को सभी अनुमान ने सुविधाएं हर हाल में मिलनी ही चाहिए। अनुमन्य सुविधाओं के सत्यापन के लिए प्रत्येक ब्लाक के 10 गांव में जाकर सत्यापन किया जाए और जिन्हें अनुमन्य सुविधा न मिली हो, उन्हें सभी अनुमन्य सुविधाएं दिलाई जाए। उन्होंने कहा भी जल जीवन मिशन के तहत कराए गए कार्याे के 10 प्रतिशत गांवो का भी निरीक्षण किया जाए, जल जीवन मिशन के तहत पाइपलाइन भूमि के 1 मीटर नीचे से जाना चाहिए उन्होंने कहा कि पाइपलाइन डालने के समय जिन सड़कों खुदाई जाती हैं, टेस्टिंग के बाद उनका पूर्व के स्वरूप की तरह निर्माण कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। उपमुख्यमंत्री ने कहा की क्षेत्र पंचायत से शासनादेश के अनुरूप मनरेगा से कार्य कराए जाएं। मुख्य विकास अधिकारी इसकी समीक्षा करें। कहा कि जो ग्राम विकास अधिकारी या ग्राम पंचायत विकास अधिकारी एक ब्लॉक में 3 साल से हैं, उनका ब्लॉक बदला जाए। परिवार रजिस्टर की नकल मिलने की व्यवस्था ऑनलाइन किए जाने की मांग पर उन्होंने कहा यह अच्छा सुझाव है, इस पर विचार किए जाने का उन्होंने आश्वासन दिया।
उप मुख्यमंत्री ने कहा कि मा0 मोदी जी के नेतृत्व की सरकार द्वारा देश में 52 करोड़ से अधिक खाते खोले गए हैं, और 30लाख करोड़ से अधिक की धनराशि विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों को सीधे भेजी गयी है, यह भ्रष्टाचार मुक्त भारत का सबसे जीवन्त प्रमाण है। इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री ने लखनऊ मंडल के सभी जिलों के 1-1 खण्ड विकास अधिकारी व दो-दो ब्लाक प्रमुखों को उनकी उत्कृष्ट सेवाओं के लिए शाल व प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया।
राज्यमंत्री ग्राम्य विकास विभाग श्रीमती विजयलक्ष्मी गौतम ने कहा कि गरीब कल्याण व जन कल्याणकारी योजनाओं का क्रियान्वयन बहुत बेहतर ढंग से किया जा रहा है, हम सबको मिलकर इसी तरह कार्य करते हुये उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाना है। कार्यशाला को मुख्य विकास अधिकारी लखनऊ ने भी सम्बोधित किया व कुशल संचालन संयुक्त विकास आयुक्त लखनऊ मण्डल श्री के के सिंह ने किया। लखनऊ के प्रमुख जनप्रतिनिधि व समाजसेवी श्री आनंद द्विवेदी, श्री विनय प्रताप सिंह के अलावा लखनऊ मण्डल के सभी जिलों के ब्लॉक प्रमुख, ज़िला विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक डीआरडीए व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More