युवाओं के हुनरमंद बनाने के कार्य मे लापरवाही करने वाले कार्मिक बख्से नही जाएंगे: कपिल देव अग्रवाल

उत्तर प्रदेश

लखनऊः कुशल युवा, समृद्ध भारत की परिकल्पना पर योगी सरकार कार्य कर रही है। आईटीआई के माध्यम से युवाओं को आधुनिक तकनीकों का प्रशिक्षण देकर हुनरमंद बनाया जा रहा है। युवाओं को आधुनिक तकनीकों का प्रशिक्षण इस तरह से दे, जिससे कि वो उस तकनीक के विशेषज्ञ बनकर रोजगार देने वाले बन सके। उक्त बातें सोमवार को प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा, कौशल विकास एवं उद्यमशीलता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) कपिल देव अग्रवाल ने प्रादेशिक प्रशिक्षण एवं शोध केंद्र, आईटीआई परिसर में  अनुदेशकों एवं कार्यदेशकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम के शुभारम्भ अवसर पर कही। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुशल निर्देशन और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अथक प्रयासों से टाटा टेक्नोलॉजी लि. से  एमओयू करके  प्रदेश की 150 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों को आधुनिक तकनीकों से जोड़ा जा रहा है। इन आईटीआई में पढ़ने वाले युवाओं को आधुनिक तकनीको में हुनरमंद बनाने के लिए अनुदेशकों एवं कार्यदेशकों को प्रशिक्षित किया जा रहा है।
कौशल विकास मंत्री ने कहा कि युवाओं को रोजगार पाने वाला ही नही बल्कि रोजगार देने वाला बनाया जा रहा है। युवाओं को प्रशिक्षण देने के लिए तकनीक क्षेत्र की विभिन्न बड़ी कंपनियों से बातचीत भी की जा रही है। उन्होंने कहा कि युवाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें रोजगार व स्वरोजगार से जोड़ने में आईटीआई की महत्वपूर्ण भूमिका है इसलिए अनुदेशक एवं कार्यदेशक अपने उत्तरदायित्वो का निर्वहन पूरी निष्ठा एवं ईमानदारी से करे। उन्होंने कहा कि युवाओं के हित मे किसी प्रकार की लापरवाही या शिथिलता करने वाले कार्मिकों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि युवाओं को आईटीआई में रोजगारपरक ट्रेड में हुनरमंद बनाने के साथ ही साथ रोजगार मेलो का आयोजन कर उन्हें रोजगार से जोड़ा जाय।
उल्लेखनीय है कि टाटा टेक्नोलॉजी लि. से आच्छादित प्रदेश के 150 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के प्रत्येक संस्थान के अनुदेशक व कार्यदेशक का प्रशिक्षण टाटा टेक्नोलॉजी लि.  के भिज्ञ प्रशिक्षकों द्वारा प्रादेशिक स्टाफ प्रशिक्षण एवं शोध केन्द्र में प्रशिक्षित किया जा रहा है। प्रशिक्षण देने हेतु बैचवार 50-50 अनुदेशकों व कार्यदेशकों का प्रशिक्षण प्रारम्भ किया गया है। प्रदेश के कुल 900 अनुदेशकों व कार्यदेशकों को विशेष रूप से एक-एक लांग टर्म कोर्स   के बारे में प्रशिक्षित किया जायेगा । प्रथम चरण में बेसिक डिज़ाइनर एंड वर्चुअल वेरिफिर एवं एडवांस सीएनसी मशीनिंग टेक्नीशियन का प्रशिक्षण संचालित किया जा रहा है। द्वितीय चरण में आर्टिसन यूजिंग एडवांस टूल एवं इंडस्ट्रियल रोबोटिक्स एंड डिजिटल मैन्युफैक्चरिंग टेक का प्रशिक्षण संचालित किया जायेगा।   प्रशिक्षण उपरान्त एसेस्मेन्ट आधार पर ग्रेडिंग करते हुये प्रमाण पत्र तैयार कर प्रतिभागियों को प्रदान किया जायेगा।  टाटा टेक्नोलॉजी लि.  द्वारा संस्थान में प्रयोगात्मक प्रशिक्षण देने हेतु यथा आवश्यक साज-सज्जा मशीनरी आदि स्थापित कर दिया गया है जिस पर प्रयोगात्मक प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है।
इस अवसर पर मिशन निदेशक रमेश रंजन, निदेशक प्राविधिक डी. के. सिंह, अपर निदेशक प्रशिक्षण एवं सेवायोजन मानपाल सिंह सहित विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More