19 C
Lucknow

मुख्यमंत्री ने श्री गोरक्षनाथ मन्दिर परिसर में पवित्र मिट्टी एकत्र कर कलश सौंपा

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी आज जनपद गोरखपुर में ‘मेरी माटी मेरा देश अभियान’ कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। इस अवसर पर उन्होंने श्री गोरक्षनाथ मन्दिर परिसर में पवित्र मिट्टी एकत्र कर कलश सौंपा। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के यशस्वी नेतृत्व में भारत ने अपनी आजादी का अमृत महोत्सव पूरी भव्यता के साथ आयोजित किया। यह हम सब का सौभाग्य है कि आजादी के अमृत काल के प्रथम वर्ष में नए भारत का दर्शन हो रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने देश की 140 करोड़ आबादी को आगामी 25 वर्षों की एक विस्तृत कार्ययोजना के साथ आगे बढ़ने का एक अवसर दिया है। प्रत्येक राष्ट्रभक्त के मन में यह इच्छा होगी कि जब यह देश वर्ष 2047 में अपनी आजादी का शताब्दी महोत्सव मना रहा होगा, उस समय दुनिया को सशक्त व समर्थ भारत का विश्व की बड़ी महाशक्ति के रूप में दर्शन हो और नया भारत दुनिया का नेतृत्व करता हुआ दिखाई दे। सशक्त भारत के लिए जो कार्यक्रम तय किए गए हैं, उसकी श्रृंखला में माटी को नमन वीरों को वंदन व विरासत के सम्मान के इस कार्यक्रम को गोरखपुर महानगर टीम द्वारा आगे बढ़ाया जा रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उनका सौभाग्य है कि उन्हें गोरखपुर की पवित्र माटी को अमृत कलश में एकत्रित करने का अवसर प्राप्त हो रहा है। प्रदेश भर के प्रत्येक नगर निकाय और विकासखण्ड से यह कलश एकत्र होकर लखनऊ और फिर दिल्ली के लिए जाएंगे। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आजादी के अमृत कलश की स्थापना की गई है। इस पवित्र कलश के स्थल पर ही प्रदेश का कलश स्थापित होगा। यहां पर एक अमृत वाटिका भी स्थापित की जा रही है।
75 शोभायात्राओं द्वारा लखनऊ पहुंचने वाले प्रदेश के 825 विकास खण्डों और 762 नगर निकायों से आए कलश भी यहां एकत्र किए जाएंगे। प्रत्येक नगर निकाय और विकासखण्ड में दो-दो कलश निर्धारित किए गए हैं। जिसमें से एक कलश लखनऊ और एक दिल्ली के कर्तव्य पथ पर आजादी के अमृत काल के नए संकल्प के साथ आगे बढ़ते हुए स्थापित किया जाएगा।
प्रदेश के कार्यक्रम का शुभारम्भ हुआ है। हम सब प्रधानमंत्री जी के विजन के अनुरूप ‘माता भूमिः पुत्रोऽहं पृथिव्याः’ के इस भाव को आगे बढ़ाने में सफल होंगे। यह कार्यक्रम सफलता की ऊंचाइयों को प्राप्त करेगा।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More