19 C
Lucknow

प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में उ0प्र0 देश में तेजी के साथ उभरती हुई अर्थव्यवस्था के रूप में स्थापित हुआ: मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश देश में तेजी के साथ उभरती हुई अर्थव्यवस्था के रूप में स्थापित हुआ है। प्रदेश को बेहतरीन एयर कनेक्टिविटी प्राप्त हुई है। आज प्रदेश को उत्तर, दक्षिण, पूर्व तथा पश्चिम से जोड़ने के लिए स्पाइसजेट एयरलाइंस द्वारा अपनी 08 नई उड़ान सेवाओं का शुभारंभ कर, भगवान श्री राम की नगरी अयोध्या को हवाई सेवा द्वारा दिल्ली, चेन्नई, अहमदाबाद, जयपुर, पटना, दरभंगा, मुम्बई तथा बेंगलुरु रूट से जोड़ा जा रहा है। इनमें से बेंगलुरु को छोड़कर शेष सभी हवाई सेवाएं आज से प्रारम्भ होंगी। दिल्ली, अहमदाबाद, मुम्बई, कोलकाता तथा बेंगलुरु के लिए अयोध्या से वायु सेवा सफलतापूर्वक संचालित हो रही हैं।
मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर अयोध्या से दिल्ली, चेन्नई, अहमदाबाद, जयपुर, पटना, दरभंगा, मुम्बई, बेंगलुरु के बीच स्पाइसजेट की सीधी हवाई सेवा के वर्चुअल माध्यम से शुभारम्भ के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। इसके पश्चात उन्होंने हरी झण्डी दिखाकर वायु सेवा का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने 30 दिसम्बर, 2023 को नवनिर्मित महर्षि वाल्मीकि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, अयोध्या धाम का लोकार्पण किया था। विगत एक माह के दौरान अयोध्या नगरी की कनेक्टिविटी देश के महत्वपूर्ण नगरों के साथ होना अयोध्या के बेहतर भविष्य व पर्यटन क्षेत्र में सम्भावनाओं की ओर ध्यान आकर्षित करता है। प्रदेश में एयर कनेक्टिविटी के क्षेत्र में बेहतर कदम उठाए गए हैं। प्रधानमंत्री जी के विजन को श्री ज्योतिरादित्य एम0 सिंधिया जी तथा डॉ0 वी0के0 सिंह जी ने जमीनी धरातल पर उतारने का कार्य किया है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अयोध्या धाम देश की आस्था का प्रतीक है। जनभावनाएं अयोध्या नगरी व प्रभु श्री रामलला के साथ जुड़ी हुई हैं। अयोध्यावासियों तथा जनप्रतिनिधियों के मन में अयोध्या के विकास की अभिलाषा थी, आज वह सपना साकार हो रहा है। इन सभी को अंतःकरण से प्रसन्नता की अनुभूति हो रही है। अयोध्या इसका हकदार था, लेकिन किन्हीं कारणों से अयोध्या की उपेक्षा की गई। आज से 10 वर्ष पूर्व कोई नहीं सोचता था कि अयोध्या में इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा। आज यह सपना साकार हुआ है। अब अयोध्या में फोरलेन सड़क कनेक्टिविटी, डबल रेलवे लाइन कनेक्टिविटी, इंटरनेशनल एयरपोर्ट निर्माण आदि सभी कार्य वास्तविकता के धरातल पर उतर चुके हैं। यह सभी सुविधाएं अयोध्यावासियों को उपलब्ध हो रही हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रभु श्री रामलला अयोध्या नगरी में स्वयं के भव्य मंदिर में विराजमान हो चुके हैं। इस सपने को साकार होते देखकर पूरी दुनिया प्रफुल्लित है। प्रभु सर्वव्यापी हैं। प्रभु श्री राम ने श्रीलंका से अयोध्या की यात्रा पूरी करके रामराज्य की स्थापना की आधारशिला रखी थी। 22 जनवरी, 2024 को प्रभु श्री राम के बाल रूप विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम भारत के गौरव की पुनर्प्रतिष्ठा का कार्यक्रम था। भारत के प्रत्येक नागरिक के चेहरे पर जो तेज, उत्साह व उमंग है, वह नए भारत की तस्वीर को प्रस्तुत करता है, जो वर्ष 2047 तक भारत को दुनिया के विकसित देश के रूप में स्थापित करने के प्रधानमंत्री जी के संकल्प को पूरा करेगा। उत्तर प्रदेश, देश के ग्रोथ इंजन के रूप में अपनी भूमिका का निर्वहन कर पाए, इस दृष्टि से अयोध्या का विकास अत्यंत महत्वपूर्ण है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विगत 10 दिनों में अयोध्या नगरी में 25 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने प्रभु श्री रामलला के दर्शन किए हैं। यह एक अद्भुत व अलौकिक स्थिति है। यह लोगों के लिए कौतूहल और आश्चर्य का विषय बना हुआ है। प्रधानमंत्री जी के विजन के अनुरूप अयोध्या का इंफ्रास्ट्रक्चर इस लायक बना है, कि अयोध्या नगरी एक साथ 50 लाख से लेकर 01 करोड़ तक पर्यटक और श्रद्धालुओं को समाहित करने का सामर्थ्य रखती है। प्रदेश सरकार द्वारा रामनवमी के लिए इसी योजना के तहत कार्य किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने स्पाइसजेट के चेयरमैन तथा सी0एम0डी0 श्री अजय सिंह को वायु सेवा के लिए अयोध्या को प्राथमिकता देने हेतु धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि अयोध्या की वायु सेवाएं हमारे लिए अभिनन्दनीय हैं। प्रदेश के अन्य क्षेत्रों की वायु सेवाओं को इसी प्रकार मजबूत बनाने में स्पाइसजेट लिमिटेड को योगदान देना होगा। उत्तर प्रदेश संभावनाओं वाला प्रदेश है। आज से प्रारम्भ होने वाली सभी फ्लाइटें यात्रियों से पूरी भरी हुई हैं। प्रदेश में अयोध्या के साथ-साथ प्रत्येक एयरपोर्ट से उड़ने वाली फ्लाइटें इसी प्रकार पूरी तरह यात्रियों से भरी हुई दिखाई देंगी। प्रदेश में लगभग 25 करोड़ आबादी निवास करती है। प्रदेश के प्रत्येक एयरपोर्ट पर डोमेस्टिक और इंटरनेशनल दोनों प्रकार के टूरिस्ट और निवेशक मिलेंगे जो अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए वायु सेवा का उपयोग करना चाहते हैं। राज्य सरकार इस मामले में अपना भरपूर सहयोग करेगी।
केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य एम0 सिंधिया ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि अयोध्या वह गंतव्य है, जिसके साथ संपूर्ण विश्व के राम भक्तों तथा 140 करोड़ देशवासियों की आस्था, विश्वास, सपने तथा संकल्प जुड़े हुए हैं। प्रधानमंत्री जी ने इतिहास रचा है। देश के करोड़ों लोगों के सपने को अपना संकल्प बनाया है। मुख्यमंत्री जी ने अयोध्या में क्रांति लाई है।
नागर विमानन मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में अयोध्या में सड़कों का चौड़ीकरण, विस्तारीकरण, स्वच्छता, नया रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, हाईवे निर्माण आदि विभिन्न विकास कार्य प्रशंसा के योग्य हैं। अयोध्या नगरी प्राचीन नगरी होते हुए आधुनिक नगरी बन चुकी है। यह सभी विकास कार्य इस बात का उदाहरण हैं कि जहां है राम का नाम, वहां पूरे होते सारे काम। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व और मुख्यमंत्री जी की कार्यशैली के कारण अयोध्या विश्वपटल पर अलंकृत हो रही है।
नागर विमानन मंत्री ने कहा कि अयोध्या में महर्षि वाल्मीकि अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का उद्घाटन 30 दिसम्बर, 2023 को प्रधानमंत्री जी के कर-कमलों द्वारा किया गया। मुख्यमंत्री जी के विशेष आग्रह पर देश के विभिन्न राज्यों की कला व संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए इस विमानतल को श्री रामजन्मभूमि मंदिर का आकार प्रदान किया गया। विमानतल का नामकरण भगवान श्रीराम के जीवन विवरण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि के नाम पर किया गया। प्रदेश में 10 एयरपोर्ट बन चुके हैं। वर्ष 2014 तक प्रदेश में केवल पांच एयरपोर्ट थे, आज यह संख्या दोगुनी हो चुकी है। मुख्यमंत्री जी के सहयोग से आगामी कुछ समय में प्रदेश में चित्रकूट, श्रावस्ती, आजमगढ़, अलीगढ़ तथा मुरादाबाद में पांच एयरपोर्ट्स पूर्ण रूप से बनकर तैयार हो जाएंगे। इससे प्रदेश में एयरपोर्ट्स की संख्या 15 तक पहुंच जाएगी। इस वर्ष के अंत तक प्रदेश में 16 एयरपोर्ट्स हो जाएंगे, जो अपने आप में किसी प्रदेश का एक रिकॉर्ड है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी, केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री तथा फ्लाइट संख्या-एस0जी0 3422 के पहले यात्री को बोर्डिंग पास प्रदान किया गया।
वर्चुअल माध्यम से हुए इस कार्यक्रम में केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) डॉ0 वी0के0 सिंह, सांसद श्री लल्लू सिंह, मुख्य सचिव श्री दुर्गा शंकर मिश्र, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एवं नागरिक उड्डयन श्री एस0पी0 गोयल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह एवं सूचना श्री संजय प्रसाद, स्पाइसजेट के चेयरमैन तथा सी0एम0डी0 श्री अजय सिंह, विशेष सचिव मुख्यमंत्री एवं निदेशक नागरिक उड्डयन श्री कुमार हर्ष, सूचना निदेशक श्री शिशिर सहित स्पाइसजेट के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Related posts

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More