मुख्यमंत्री से केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने भेंट की, स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल: मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश
लखनऊ: 20 फरवरी, 2015, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव से आज यहां उनके सरकारी आवास पर केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री जे.पी. नड्डा ने भेंट की। मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री को स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर बनाने के लिए राज्य सरकार के प्रयासों की जानकारी दी। श्री यादव ने श्री नड्डा से प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए केन्द्र सरकार से अधिक से अधिक सहयोग एवं मदद उपलब्ध कराने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री को अवगत कराया कि स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल है। प्रदेश सरकार समाज के गरीब एवं कमजोर वर्गों तथा दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले लोगों को अच्छी चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने के लिए लगातार कार्य कर रही है। प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में निःशुल्क दवाइयों की उपलब्धता के साथ-साथ मुत जांच और एक्स-रे की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना का बेहतर क्रियान्वयन किया जा रहा है। ‘108’ समाजवादी स्वास्थ्य सेवा और ‘102’ नेशनल एम्बुलेंस सर्विस जरूरतमंदों के लिए वरदान साबित हुई हैं और इन एम्बुलेंस सेवाओं के जरिए लाखों लोगों को समय से चिकित्सा सुविधा मिली है।
श्री यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश एक विशाल राज्य है, जहां मेडिकल काॅलेजों की संख्या एवं स्थान आबादी की जरूरतों के मुताबिक नहीं है। राज्य में ज्यादातर जिले ऐसे हैं, जहां मेडिकल काॅलेज उपलब्ध नहीं हैं। प्रदेश सरकार अपने सीमित संसाधनों से नये राजकीय मेडिकल काॅलेज स्थापित कर रही है। इसके बावजूद जनता को पर्याप्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए ज्यादा से ज्यादा जिलों में मेडिकल काॅलेजों की स्थापना जरूरी है। इसके दृष्टिगत बस्ती, फिरोजाबाद, बहराइच, फैजाबाद और शाहजहांपुर के जिला अस्पतालों को भारत सरकार की योजना के तहत मेडिकल काॅलेज के तौर पर उच्चीकृत करने का निर्णय लिया गया है। प्रदेश सरकार योजना के प्राविधानों के अनुरूप राज्यांश उपलब्ध कराने के लिए सहमत है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय की योजना के तहत इन जनपदांे में मेडिकल काॅलेजों की स्थापना हेतु केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री से शीघ्र धनराशि उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के हितों को देखते हुए केन्द्र सरकार के अनुरोध पर प्रदेश सरकार ने रायबरेली में एम्स की स्थापना हेतु भूमि उपलब्ध कराई। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री से आग्रह किया कि रायबरेली की तर्ज पर पूर्वांचल, बुन्देलखण्ड तथा रूहेलखण्ड क्षेत्रों में भी एम्स की स्थापना के लिए भारत सरकार को प्रभावी कदम उठाने चाहिए। उन्होंने आश्वस्त किया कि इन संस्थानों की स्थापना के लिए राज्य सरकार द्वारा प्राथमिकता पर आवश्यक भूमि की व्यवस्था कराई जाएगी।
श्री यादव ने बताया कि राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम का प्रभावी क्रियान्वयन हो रहा है। प्रदेश के जे.ई./ए.ई.एस. प्रभावी जनपदों में स्वास्थ्य सेवाओं का उच्चीकरण मुस्तैदी से कराया जा रहा है। गोरखपुर मेडिकल काॅलेज में मस्तिष्क ज्वर के उपचार के लिए 500 बिस्तर वाले बाल रोग चिकित्सा संस्थान का निर्माण प्रारम्भ हो गया है। श्री यादव ने केन्द्रीय मंत्री को स्वाइन लू के उपचार के सम्बन्ध में राज्य सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए अनुरोध किया कि इस रोग के इलाज के लिए भारत सरकार को टीका आदि प्रदेश सरकारों को समय से उपलब्ध कराए जाएं।
केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने राज्य सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए इस सम्बन्ध में भारत सरकार के पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। उन्होंने आशा व्यक्त की कि प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से स्वास्थ्य सेवाएं और बेहतर बनेंगी।
इस अवसर पर चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री अहमद हसन, मुख्य सचिव श्री आलोक रंजन, प्रमुख सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री अरविन्द कुमार सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Related posts

6 comments

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More