सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित विकास पुस्तिका ‘नई दिशा विमोचन करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत

उत्तराखंड
देहरादून:  कैंट रोड़ स्थित मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित कार्यक्रम में सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित विकास पुस्तिका ‘नई दिशा की ओर-अपना उत्तराखण्ड’’ का मुख्यमंत्री हरीश रावत ने विमोचन किया।

वर्तमान सरकार के तीन वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर सूचना विभाग द्वारा प्रकाशित विकास पुस्तिका का विमोचन करने के बाद मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि तीन वर्ष में सरकार के सामने जो चुनौतियां थी और उनका समाधान करने के लिए सरकार जो प्रयास किये है, उसका विवरण विकास पुस्तिका में किया गया है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में प्रत्येक दिन, प्रत्येक क्षण जनता को ब्यौरा देना पड़ता है। चुने हुए प्रतिनिधि, प्रशासनिक तंत्र, जनता और मीडिया लोकतंत्र के अंग है, लेकिन जनता सर्वोच्च है। हम सरकार के प्रति जवाबदेह है। हमने कोशिश की है, कि जवाबदेही को सक्रिय और चिंतनशील बना सके। हमने कई निर्णय लिये है। हमने ढांचागत विकास के क्षेत्र में काम किया है और आज हम ढांचागत विकास के क्षेत्र में संभावनायुक्त राज्य के रूप में आगे बढ़ रहे है। राज्य ने तकनीकी और उच्च शिक्षा के क्षेत्र में नई पहचान बनायी है। हमारा प्रयास है कि तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिया जाय, ताकि हम प्रतिस्पद्र्धात्मक शिक्षा छात्रों को दे सके। हमारे पास उपलब्ध जल और जंगल मानवता के लिए है। हमने पहल की है कि जल संवर्द्धन और जंगलों से जन को जोड़ा जाय। ईको टूरिज्म के क्षेत्र में हमने कदम बढ़ाया है। हमने पर्यटन के क्षेत्र में भी कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये है। आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा किये गये कार्य सराहनीय रहे है। आपदा प्रबंधन में हमारे द्वारा किये गये कार्यों से अन्य राज्यों ने भी लाभ उठाया है। सामाजिक सुरक्षा के क्षेत्र में हमारी सरकार ने अहम निर्णय लेते हुए इसके दायरे में लगभग सभी वंचित व कमजोर वर्ग के लोगों को लिया है। हमने ने केवल पेंशन की राशि को बढ़ाया, बल्कि पात्रता के दायरे को भी बढ़ाया है। हमारा प्रयास है कि प्रत्येक वर्ष अपने आय के संसाधनों को देखते हुए वार्षिक रिवीजन की व्यवस्था को लागू किया है। हमारी सरकार ने प्रति व्यक्ति आय के दृष्टिकोण से बाहर निकलते हुए आम व्यक्ति के संतुष्टि के स्तर को बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया है। हमने यह भी प्रयास किया है कि प्रति व्यक्ति आय की जो असामनता है उसे दूर कैसे किया जाय। पंचायतीराज व्यवस्था को प्रभावी बनाया गया है। केन््रद्र सरकार द्वारा योजनाओं में कटौती करने के कारण उत्तराखण्ड को 2500 करोड़ रुपये का नुकसान होगा, लेकिन हमने इसके बावजूद हम प्रदेश के किवास की गति को धीमा नहीं पड़ने देंगे।
हमारी सरकार द्वार शुरू की गई योजनाओं और कार्यक्रमों का असर प्रत्येक गांव तक दिखेगा। हमने इन तीन वर्षों में कोशिश की है कि सभी क्षेत्रों को छुए। हम एकांकी में विश्वास नही करते है, बल्कि टीम भावना में विश्वास करते है। सबकी भागीदारी से और सबको साथ लेकर चलने में हम विश्वास रखते है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अगले दो सालों में हमारी सरकार शिक्षा, सामाजिक पेंशन, खेती-कुटीर उद्योग जैसे मूलभूत क्षेत्रों में फोकस कर रही है। इसका परिणाम भी अगले दो वर्षों में देखने को मिलेगा।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सचिव सूचना मोहम्मद शाहिद ने सभी का स्वागत करते हुए विकास पुस्तिका के संबंध में संक्षिप्त जानकारी दी। महानिदेशक सूचना चन्द्रेश कुमार द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया, जबकि अपर निदेशक सूचना डाॅ. चन्दोला द्वारा संचालन किया गया।
इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री डाॅ. हरक सिंह रावत, दिनेश अग्रवाल, हरीश चन्द्र दुर्गापाल, विधायक एवं सभा सचिव श्रीमती शैलारानी रावत, प्रो. जीतराम, राजकुमार, मनोज तिवारी, हेमेश खर्कवाल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय, मुख्य सचिव एन.रविशंकर, अपर मुख्य सचिव एस.राजू, सचिव शहरी विकास डी.एस.गब्र्याल, जिलाधिकारी रविनाथ रामन आदि उपस्थित थे।

Related posts

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More