20 C
Lucknow

इलाहाबाद, देवरिया, सिद्धार्थनगर तथा कौशाम्बी  में सबसे अधिक नकलची पकड़े गये

उत्तर प्रदेश
लखनऊ: प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा मंत्री श्री महबूब अली ने माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश द्वारा संचालित वर्ष 2015 की हाईस्कूल व इण्टरमीडिएट की परीक्षाओं को नकल विहीन कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि एक साथ 19 फरवरी से प्रदेश के 11058 परीक्षा केन्द्रों पर होने वाले हाईस्कूल की 11 मार्च को तथा इण्टरमीडिएट की 23 मार्च  को समाप्त होगी। हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट परीक्षाओं में क्रमशः 3498430 एवं 2924768 कुल 6423198 परीक्षार्थी परीक्षा में सम्मिलित होने के लिये पंजीकृत हुए थे किन्तु परिषदीय परीक्षाओं में शासन द्वारा नकल पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिये जो प्रयास किये जो रहे हैं उसके फलस्वरूप आज तक हाईस्कूल में पंजीकृत परीक्षार्थियों के सापेक्ष 418419 एवं इण्टरमीडिएट में 257282 कुल 675701 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ी है जो पंजीकृत परीक्षार्थिंयों के सापेक्ष 10.51 प्रतिशत है।

श्री महबूब अली ने बताया कि परीक्षा के दौरान कुल 1655 परीक्षार्थी नकल करते हुए पकड़े गये हैं तथा प्रदेश में कुल 76 केन्द्र व्यवस्थापक तथा 155 कक्ष निरीक्षक बदले गये हैं। इनमें से 30 कक्ष निरीक्षकों तथा 15 केन्द्र व्यवस्थापकों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। इसके अतिरिक्त दो प्रधानाध्यापकों तथा एक परीक्षा सहायक के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। इस प्रकार अब तक कुल 48 कार्मिकों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है।
प्रदेश में सबसे अधिक नकलची इलाहाबाद में 108, सिद्धार्थनगर में 135, देवरिया में 125, कौशाम्बी में 82, जालौन में 80 नकलची पकड़े गये हैं। उन्होंने बताया कि आज तक बालक 1078 तथा बालिका 577 नकलची पकड़े गये हैं। आज 09 मार्च को बालक हाईस्कूल में 78 तथा इण्टर में 48 तथा बालिका हाईस्कूल में 31 तथा इण्टर में 18 नकलची पकड़े गये हैं।

Related posts

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More