14 C
Lucknow

विधान सभा में वर्ष 2015.16 का बजट पेश करते हूए वित्त मंत्री डा0 (श्रीमती) इंदिरा हृद्येश

उत्तराखंड

देहरादून: 16 मार्च, 2015, मुख्यमंत्री हरीश रावत ने वित्त मंत्री डा. (श्रीमती) इंदिरा हृद्येश द्वारा वर्ष 2015-16 के लिए प्रस्तुत बजट का स्वागत करते हुए कहा है कि यह बजट सभी प्रदेशवासियों के हित में है। इससे नये उत्साह का संचार होगा। जनता की सहभागिता से राज्य के समावेशी विकास का प्रयास किया गया है। हमने जहां राज्य के आर्थिक संसाधनों को बढ़ाने पर बल दिया है, वहीं सभी वंचित व कमजोर वर्गों के कल्याण के लिए अनेक नई पहल की है। बजट में विभागीय अनुशासन का भी ध्यान रखा गया है, जिसके लिए वित्त मंत्री बधाई की पात्र है। कोई राजस्व घाटा अनुमानित नहीं है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को केन्द्र सरकार के बजट से काफी उम्मीद थी, कि वहां से काफी बड़ी धनराशि का सहयोग राज्य को मिलेगा। केन्द्र में नीतिगत कारणों से असमंजस की जो स्थिति है, उसके आलोक में वित्त मंत्री ने घाटे को नियंत्रित करते हुए वर्ष 2015-16 में सरप्लस बजट दिया है। बजट में हर क्षेत्र का ध्यान रखा गया है। बजट के माध्यम से प्रयास किया है कि प्रदेश में पलायन की गति को नियंत्रित किया जाय। शिक्षा के क्षेत्र में काफी कुछ नया करने की बात कही गई है। राज्य में स्थापित विश्वविद्यालयों में स्कूल आॅफ लोकल लैग्वेज खोला जायेगा। अल्मोड़ा में आवासीय विश्वविद्यालय स्थापित करने की बात कही गई है। प्रत्येक विकासखण्ड स्तर पर राजीव गांधी अभिनव विद्यालय स्थापित होंगे। दो सैनिक स्कूल स्थापित होंगे। बजट निर्माण में जनता से भी सुझाव लिए गए। वित्त मंत्री ने बजट में अभिनव पहल करते हुए जन्म से विकलांग बच्चों को 18 वर्ष की आयु तक 500 रूपए प्रति माह पेंशन देने की योजना प्रारम्भ की है। यह बजट एक नया अध्याय शुरू करेगा। राज्य आंदोलनकारियों के कल्याण के लिए ‘‘राज्य आंदोलनकारी कल्याण कोष’’ की स्थापना की गई है। बजट में 38वें राष्ट्रीय खेलों, ‘‘मुख्यमंत्री वृद्ध महिला पोषण योजना’’, ‘‘मेरा गांव-मेरी सड़क योजना’’, ‘‘मेरे बुजुर्ग मेरे तीर्थ योजना’’ के लिए धनराशि का प्राविधान किया गया है। हमारी सरकार महिलाओं की सुरक्षा व कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। ‘‘वीर चंद्र सिह गढ़वाली योजना’’ को और व्यापक करते हुए इसमें महिलाओं के लिए 20 प्रतिशत तक मात्राकरण किया गया है। पीआरडी व होमगार्ड्स में महिलाओं के लिए 20 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की जाएगी। महिलाओं को स्वव्यवसाय से जोड़ने के लिए इंदिरा प्रियदर्शिनी कामकाजी महिला योजना प्रारम्भ की जा रही है।

मुख्यमंत्री के मीडिया प्रभारी सुरेन्द्र कुमार ने कहा है कि वित्त मंत्री डा. इंदिरा हृद्येश द्वारा आज जो बजट प्रस्तुत किया गया है। उसमें सभी वर्गों का ध्यान रखा गया है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने जनता के सुझाव भी इस बजट में शामिल किये है। बजट के माध्यम से प्रदेश के विकास की तस्वीर साफ झलकती है। यह बजट सभी वर्गों के लिए लाभदायक होगा। बजट में जनसभागिता से जुड़ी अनेक योजनाओं को शामिल किया गया है।

जिनके शुरू होने से प्रदेश में विकास की गति को तेजी मिलेगी। उन्होंने कहा कि बजट में विय अनुशासन का पूरा ध्यान रखा गया है। वित्त मंत्री द्वारा प्रस्तुत किया गया बजट जनकल्याणकारी एवं जनहित में है। प्रत्येक वर्ग का बजट में ध्यान रखा गया है। ऐसा बजट पहली बार तैयार हुआ है, जिसमें युवाओं, बुजुर्ग, मातृ शक्ति सहित सभी का ध्यान रखा गया है। प्रदेश से हो रहे पलायन को रोकने के लिए भी ठोस कदम उठाये गये है।

Related posts

5 comments

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More